रावी पार का रचना संसार

रावी पार का रचना संसार

उस शाम रावी दरिया का पानी सरहदें पार करके मुंबई के अरब महासागर से आ मिला था और अपने साथ बहा ले आया था लाहौर की सोंधी सोंधी मिट्टी की गंध, वहां की बोली की मिठास, अनारकली ब़ाजार की रौनक, वहां की तहजीब, मौसिकी, अदब, वहां की सियासत की बातें और वहां की जनता के सुख-दुख के अनगिनत किस्से, जो सांझे थे और हैरानी की बात, ठीक हमारे अपने दुखों की तरह ही थे। उन्हें सुन कर हमारी आंखों में वैसे ही पानी भर आया था जैसे अपने किसी करीबी के दुख दर्द सुन कर हमारी आंखें भर आती हैं। उस शाम दोनों देशों के बीच की सारी भौगोलिक सीमाएं मिट चली थीं। उस शाम बह रही थी एक ऐसी बयार जिसमें बेशक दोनों तरफ आपसी रंजिशों की शिकायतें तो थीं लेकिन और ज्यादा मेल जोल ब़ढाने, आदान प्रदान करने, देने और लेने तथा मिल बांट कर रहने, खाने और कुछ कर दिखाने का सांझा जज्बां भी लगातार जोर मार रहा था।
मौका था पाकिस्तान के लाहौर से पधारीं बोल्ड एंड ब्यूटीफुल अफसाना निगार नीलम बशीर से एक अनौपचारिक मुलाकात का। लगभग तीन घंटे चली इस गोष्ठी में दोनों तरफ से ढेरों सवाल पूछे गये, स्थितियों का जाय़जा लिया गया, और फिर से मिल बैठने के वादे किये गये। इस अवसर पर भारत-पाक के बीच लेखकीय संबंधों और सांस्कृतिक आदान-प्रदान पर खुल कर चर्चा हुई।

नीलम बशीर ने कहा कि उन्हें बिलकुल भी ऐसा नहीं लग रहा कि वे किसी गैर जगह पर हैं। उन्होंने बताया कि पाकिस्तान में भारत का संगीत, यहां की फिल्में, टीवी सीरियल खूब सुने और देखे जाते हैं। शाहरुख खान और माधुरी दीक्षित उनके उतने ही अपने हैं जितने हिन्दुस्तानियों के। उनका ख्याल था कि फिल्म एक ऐसा जरिया है जिससे दूसरी तरफ के लोगों के बारे में, उनकी जिंदगी की बारे में उन्हें पूरी खबर मिलती रहती है। बार्डर फिल्म का जिक्र आने पर उन्होंने अफसोस के साथ कहा कि उस फिल्म में पाकिस्तानियों को कुत्ते कहा गया था और इसी तरह से गदर फिल्म में एक अदना सा नायक पूरे पाकिस्तान में तबाही मचा देता है और जिस तरह से कत्लेआम करना शुरू कर देता है, उसे देख कर पाकिस्तान के लोगों को बहुत तकलीफ हुई। उन्होंने दावे से कहा कि पाकिस्तान में हिन्दुस्तान विरोधी फिल्में नहीं बनतीं। इस तरह की फिल्में आपस में नफरत पैदा करती हैं। उनके ख्याल से ऐसी फिल्मों का यहां भी विरोध होना चाहिये।

Also Read – मोबाइल ने बचाई हमारी जान

उन्होंने माना कि पाकिस्तान में भी कट्टर पंथिंयों को पसंद नहीं किया जाता। लेकिन बस भी नहीं चल पाता। उनके लेखक के बारे में पूछे जाने पर नीलम जी ने कहा कि उनकी कहानियां जिस तरह की होती हैं, वे वहां आम लेखक नहीं लिखते। पत्रकार फिरोज अशरफ के इस सवाल पर कि वहां मध्यम वर्ग पिस रहा है लेकिन लोकतंत्र की बहाली के लिए कुछ नहीं करता, नीलम जी ने तुर्शी से जवाब दिया कि पाकिस्तान में लोकतंत्र एक सिरे से ही फेल हो गया है। बार बार वे ही लुटेरे लोक तंत्र में चुन कर आ जाते हैं और फिर जम कर जनता को लूटते हैं। जो खास लोग चुन कर आते हैं वे सामंती लोग होते हैं और उनके पास जनता को खरीद सकने लायक ताकत और पूंजी होती है। इनका विरोध आम आदमी नहीं कर पाता क्योंकि उसके पास कोई जरिया नहीं होता। लोकतंत्र से, उनके अनुसार, हमें कोई फायदा नहीं होता। अब तो इसकी आरजू ही नहीं रह गयी है। हालात बेहद खराब हैं वहां। बेशुमार महंगाई है। सबसे महंगी बिजली है। सिर्फ रात को एक कमरे में एसी चलाने का बिल आठ हजार रुपये आता है। आम आदमी सौ रुपये में ढंग से खाना नहीं खा सकता।

दिल्ली से पधारे पत्रकार रवींद्र त्रिपाठी ने जब इंटर कल्चर के सन्दर्भ में कहा कि पाकिस्तान में कौन से हिन्दी या इंडियन लेखक प़ढे जाते हैं तो नीलम जी ने बताया कि वहां सिर्फ वे ही राइटर्स प़ढे जा सकते हैं जो उर्दू में वहां पहुंचते हैं। उन्होंने इस सिलसिले में गुल़जार, खुशवंत सिंह, बेदी, जोगिन्दर पाल वगैरह के नाम गिनाये। प्रेमचंद को तो उन्होंने स्कूली क्लासों में प़ढा था। इसी बात को आगे ब़ढाते हुए फिरोज अशरफ ने कहा कि ये तो भई हिन्दुस्तानीं संस्थानों का काम है कि यहीं से हिन्दी और दूसरी भाषाओं की रचनाएं उर्दू में अनूदित हों और वहां तक पहुंचें।

Also Read – Top 5 Children Novels of all time

सूरज प्रकाश ने इसके जवाब में कहा कि हम तक पाकिस्तान का अमूमन सारा लिटरेचर हिन्दी पत्रिकाओं के उर्दू अंकों के जरिये और जोधपुर से श्री हसन जमाल द्वारा संपादित शेष रिसाले के जरिये पहुंच जाता है। इसके पीछे भारतीयों की ही कोशिश होती है। दिक्कत यही है कि उर्दू भाषियों तक हमारी रचनाएं पहुंचें, इसकी कोशिश भी हमें ही करनी होगी। कथा लेखिका संतोष श्रीवास्तव के अनुसार भारत में तो सभी भाषाएं एक समान हैं लेकिन नीलम जी सिर्फ उर्दू की ही बात कर रही हैं। ऐसा क्यों। इसके जवाब में उन्होंने कहा कि उनकी मादरी जबान पंजाबी है लेकिन वे पंजाबी भाषा में पूरी जिदंगी गुजार लेने के बावजूद पंजाबी लिख प़ढ नहीं सकतीं। उन्हीं की तरह पाकिस्तान के ज्यादातर उर्दू लेखक पंजाबी भाषी हैं। इसके अलावा इस बात को भी याद रखने की ज़रूरत है कि पाकिस्तान में साक्षरता बहुत कम है। औरतों में तो साक्षरता और भी कम है। सच तो ये है कि प़ढाना लिखाना सरकारों की प्रायरिटी में ही नहीं आता। फिर भी करने वाले लोग काम करते ही रहते हैं। हां, आम आदमी तक उसकी पहुंच नहीं हो पाती।

इस सवाल के जवाब में कि पाकिस्तान में लिखने वाले क्या लिख रहे हैं, और वे खुद क्या लिख रही हैं, तो नीलम जी ने कहा कि जो चीजें और लोग नहीं लिख रहे, वे वही लिख रही हैं। हर तरप तो कहानियां बिखरी प़डी हैं। कहानियां तलाशने कहीं जाना नहीं प़डता। एक अजीब बात नीलम जी ने बतायी कि पाकिस्तान में औरतें मर्दों की बनिस्बत ज्यादा लिख रही हैं। मर्द इस लाइन में पीछे रह गये हैं।

श्री रवींद्र त्रिपाठी के ये पूछने पर कि वहां औरतों का दौर कैसा चल रहा है, नीलम जी ने जवाब दिया कि हमें जो लिखना हैं, हम लिखते हैं। कोई हमारा हाथ पक़ड कर रोकने वाला नहीं है। बेशक वहां औरतों के संगठन नहीं हैं। इसकी वजह शायद साक्षरता की कमी भी हो सकती है। लेकिन अच्छी चीज को अच्छा कहने वाले वहां मौजूद हैं।

Also Read – बारनवापारा जहां पशु सौर ऊर्जा से पानी पीते हैं

प्रसिद्ध संगीतकार और गायक शेखर सेन ने इस बात पर एतराज किया कि जब साक्षरता कम होती है तो चाहे वह किसी भी जुबान की बात हो, उसी वक्त सबसे अच्छा साहित्य रचा जाता है। उदाहरण सामने हैं। प्रेमचंद, टैगोर, बंकिम चंद्र। उन्होंने इस बात पर भी दुख व्यक्त किया कि पाकिस्तान के सारे गायकों वगैरह को यहां सिर आंखों पर बिठाया जाता है लेकिन पाकिस्तान में कभी भी किसी भारतीय गायक को नहीं बुलाया जाता। इस पर नीलम जी ने जोरदार आवाज में कहा कि पाकिस्तान में आप लोगों के दिलों पर राज करते हैं। सरकारें चाहें या न चाहें। आपका मुल्क और आपकी सरकारें संगीत और कलाओं की कद्र करना जानती हैं। जबकि पाकिस्तान में सरकारें खुद पाकिस्तान की कलाओं की परवाह नहीं करतीं तो दूसरे मुल्कों की तो बात ही और है। उन्होंने इस बात का विश्वास दिलाया कि वहां हर शख्स ब़डे शौक से भारतीय संगीत सुनता है और जगजीत सिहं के लिए तो लोग जान तक देने को तैयार हैं।

बातचीत के दौर को थ़ोडा विराम देने के लिए नीलम जी ने अपनी एक मार्मिक कहानी सुनायी जिसके पात्र संयोग से हिन्दू थे। कहानी सुन कर सबकी आंखें नम हो आयीं। उन्होंने अपनी दिलकश आवाज में फ़ैज साहब की एक नज्मी भी सुनायी। शेखर सेन जी ने पाकिस्तानी शायरा ᳻܉〉㸉 निगाह की सीता पर लिखी नज्मे सुनायी। हस्तीमल हस्ती और देव मणि पांडेय ने भी एक एक ग़जल सुना कर माहौल को संगीतमय बना दिया।

इस कार्यक्रम के सूत्र संचालक थे कथाकार सूरज प्रकाश। मेजबान थे युवा कवयित्री कविता गुप्ता और उनके सौम्य और मृदु भाषी दिनेश गुप्ता। इस मौके पर मुंबई और दूसरे शहरों से आयी साहित्य, पत्रकारिता और फिल्मों से ज़ुडी नामचीन हस्तियां वहां मौजूद थीं। फिल्मकार राजेद्र गुप्ता, संगीतकार शेखर सेन, फिल्मकार अतुल तिवारी और कवयित्री पत्नी कुनिका, लखनऊ से पधारे प्रोफेसर दीक्षित, कवयित्री वंदना मिश्रा, पत्रकार ललिता अस्थाना, कहानीकार विभा रानी, संतोष श्रीवास्तव, प्रमिला वर्मा, पत्रकार अजय ब्रह्मात्मज, गजलकार हस्तीमल हस्ती, देव मणि पांडेय, और दूसरे शहरों से पधारे कई अन्य मेहमान। वहां पर मौजूद सभी लोगों ने इस बात को स्वीकार किया कि मुंबई में अरसे बाद इस तरह की सार्थक बातचीत वाली गोष्ठी हुई है।

Written by ‘सूरज प्रकाश’ Team Storymirror

Read here collection of Hindi Stories written by Indian Writers

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s