इन्डियन अवेन्जेर्स

INDIAN AVENGER1

70 mm के पर्दे पर पड़ती  तेज़ रोशनी के सहारे दौड़ते चित्र l दौड़ते चित्रो के साथ रोमांचित कर देने वाली आवाज़े पुरे थिएटर को अपने साथ ले उठती है l दृश्य एक एयरपोर्ट का l एयरपोर्ट पर होते कई धमाके, जलती गाड़ियां और परखच्चे उड़ चुके हवाईजहाजों का मलबा l आग की लपटें आसमान को छू तांडव सा रचती है l आग में से छनता  काला धुआं पुरी तरफ घुप्प अँधेरा कर देता है l यह सब कुछ दर्शको के बीच पनप रहे रोमांच को एक नए गंभीर आयाम पर लाकर रख देता है l दृश्य बदलता है, और धुआं छटने के साथ पर्दे पर दो कतारे खडी नज़र आती है l पहली कतार में ‘नागराज’, ‘परमाणु’, ‘इंस्पेक्टर स्टील’, ‘नताशा’ और ‘भेड़िया’ है वही दूसरी कतार में ‘सुपर कमांडो ध्रुव’, ‘भोकाल’, ‘शक्ति’, ‘कोबी’ और ‘सुपर इंडियन’ है l इन सबकी नज़रे आसमान में है, जहाँ पर ‘महामानव’ हाथ फैलाये हवा में तैर रहा है l नीचे ‘डॉक्टर वायरस’, बौना वामन और ‘ग्रैंड मास्टर रोबो’ है l

दृश्य बहुत कुछ जाना पहचाना सा लगता है न, जी हाँ हाल ही में आई ‘कैप्टेन अमेरिका’ की नक़ल है l पर ज़रा आप ही सोचिये अगर ‘अवेन्जेर्स’ में ‘मार्वेल्स कॉमिक्स’ के किरदारो की जगह पर ‘राज कॉमिक्स’ के किरदार होते l तो क्या होता ? सवाल कई है, पर जवाब सबके अपने अपने है l जिनमे से शायद एक संभव कहानी कुछ इस तरह हो सकती है, जो की भारतीय शहरो में घटती है जिसमे आज के दौर असली खलनायक भी शामिल है l

14 अगस्त 2015

मुंबई पुलिस हेडक्वार्टर में चल रही मीटिंग में इंस्पेक्टर विनय सबको यह समझाने की कोशिश कर रहा है की ‘इंडियन मुज्जहिद्दीन’ आने वाले दिनों में कुछ बड़ा करने वाला है l वो उन्हें समझाता है की महामानव कितनी ही तबाही मचा चुका है और उत्तराखंड में आई बाढ़ के पीछे उसका है दिमाग था l मीटिंग में कोई भी उसका विश्वास नहीं करता है और 7 घंटो से चल रही मीटिंग बिना किसी नतीजे पर ख़त्म होती है l मुख्यमंत्री मनोहर शिंदे उनसे 15 अगस्त की तैयारी पर ध्यान देने को कहते है l वहां दिल्ली में राज अपने कैमरामैन के साथ सुप्रीम कोर्ट के बाहर चंदा राव के एन.जी.ओ ‘शक्ति’ के खिलाफ चल रहे भ्रष्टाचार के केस के फैसले का इंतज़ार कर रहा है l शाम के 6 बज चुके है और सुप्रीम कोर्ट का फैसला आता है जिसमे ‘शक्ति’ पर 5 साल तक का प्रतिबन्ध और चंदा राव को 2 साल की जेल होती है l वही पूना में बाबु काम्बले अपनी रैली के लिए कुछ तैयारियां कर रहे है l

15 अगस्त 2015

आज़ाद मैदान

आज़ाद मैदान में चल रही, बाबु काम्बले की इंडिया यूनाइट रैली में बाबू काम्बले अपने समर्थको को आज़ादी का महत्व बता रहे है l लाखो की तादाद में उनके समर्थक आज़ाद मैदान में एक जुट हो रहे है l भारत माता की जय के नारे हवा में मीठी खुशबु सी घोल रहे है l गाँधी रोड भी अब जाम हो चुका है l स्टर्लिंग सिनेप्लेक्स की छत पर सुपर कमांडो ध्रुव इन सब गतिविधियों पर अपनी नज़र जमाये हुए है l क्योंकि उसे खबर मिली है की 15 अगस्त को ‘महामानव’ किसी भयानक घटना को अंजाम देने वाला है l तभी उसे एक धमाके की आवाज़ आई l वो अपने हाईटेक गोगल्स से ‘आई.एम’ के लोगो को पहचान लेता है l अपनी कलाई पर बंधे गैजेट के कुछ बटनों को दबाता है और सिनेप्लेक्स की छत से कूदता है l गैजेट से निकली एक केबल से संभालता हुआ वो नीचे उतर कर दौड़ता हुआ मैदान तक पहुचता है l ब्लैक कमांडो अपने हेलीकाप्टर से नीचे उतर ही रहे होते है, पर तभी  आई.एम का एक मिसाइल उस हेलीकाप्टर में ब्लास्ट कर देता है l तभी परमाणु गिरते हुए हेलीकाप्टर को पकड़कर समंदर में फ़ेंक देता है l ‘मीटिंग में था लेट हो गया’ परमाणु ने ध्रुव से कहा l तब तक सभी कमांडो और पुलिस फोर्स पस्त हो चुके है बस इंस्पेक्टर स्टील डटा हुआ है l तभी ज़मीन से काले सांप निकल कर और आतंकियों से लड़ने लगते है l सर्परस्सी को छोड़ता हुए हवा में कलाबाज़ी करता हुआ नागराज नीचे आया l वो मुस्कुराता है और कहता है की शक्ति आये बिना तो मानेगी नहीं, चाहे उसे जेल ही क्यों न तोडनी पड़े l आज़ाद मैदान अब जंग का मैदान बन चुका होता है l वो बाबु काम्बले को छुडाते है तभी 25 मीटर ऊँची समंदर की लहर सब को हिला कर रख देती है l उसके पीछे महामानव हवा में दोनों हाथ फैलाये तैर बिजलियों से खेल रहा है l इससे पहले कोई कुछ कहे महामानव अपने दिमागी जोर से पास की बिल्डिंग को गिरा देता है जिसमे इंस्पेक्टर स्टील दब जाता है l महामानव पर किसी की शक्ति का कोई असर नहीं होता और फ़िर सब अपनी आखिरी कोशिश करते हुए चारो अपनी शक्तियों को मिलाकर महामानव पर हमला करते है, पर उस पर कोई असर नहीं होता l वो फ़िर कोशिश करते है और तभी एक आग की  तेज़ धार उन चारो की शक्तियों से मिलती है और महामानव से सर से टकराती है l सब पीछे मुड़कर देखते है, शक्ति आ चुकी होती है l महामानव नीचे गिर जाता है l इंस्पेक्टर स्टील उसको गिरफ्तार करता है l फ़िर उसे एक स्पेशल जेल में कैद कर दिया जाता है l

तो ये थी भारत के अवेंजेर्स की कहानी l

-Rahul Kumar

Team StoryMirror

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s